Best 99+ Allama Iqbal Shayari In Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में आप जानने वाले हो Best Allama Iqbal Shayari In Hindi. जो आपको कही और नहीं मिलेगी।

जैसा की आप जानते हो की Allama Iqbal Ki Shayari दिल छू लेने वाली होती है। इसलिए हमने आज आपके लिए बहुत ही शानदार Allama Iqbal Ki Shayari लेके आये है।

तो चलिए शुरू करते है Allama Iqbal   Ki Shayari.

Best Allama Iqbal Shayari In Hindi
Best Allama Iqbal Shayari In Hindi

Best Allama Iqbal Shayari In Hindi

Best Allama Iqbal Shayari In Hindi
Best Allama Iqbal Shayari In Hindi

अमल से ज़िन्दगी बनती है, जन्नत भी, जहन्नम भी,
ये खाकी अपनी फितरत में, न नूरी है न नारी है.

खुदी को कर बुलंद इतना, कि हर तक़दीर से पहले,
खुदा बन्दे से खुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है.

दुआ तो दिल से मांगी जाती है, जुबां से नहीं ऐ इक़्बाल,
क़ुबूल तोह उसकी भी होती है जिसकी जुबां नहीं होती.


Best Allama Iqbal Shayari In Hindi

Best Allama Iqbal Shayari In Hindi
Best Allama Iqbal Shayari In Hindi

खफा जो इश्क़ में होते हैं, वो खफा ही नहीं,
सितम न हो मोहब्बत में, कुछ मज़ा ही नहीं.

Manzil se aage badh kar, manzil talash kar,
Mil jaye tujhko dariya, samundar talaash kar.
Har sheesha toot jaata hai pathar ki chot se,
Pathar hi toot jaye, wo sheesha talaash kar.

कोई इबादत की चाह में रोया,
कोई इबादत की राह में रोया,
अजीब है ये नमाज़-इ-मोहब्बत के सिलसिले इक़बाल,
कोई कज़ा कर के रोया, कोई ऐडा कर के रोया.


Best Allama Iqbal Shayari In Hindi

कौन रखेगा याद हमे इस दौरे खुदगर्ज़ी में,
हालात ऐसे है की लोगों को ख़ुदा याद नहीं.
न रख उम्मीद-इ-वफ़ा किसी परिंदे से इकबाल,
जब पर निकल आते है तोह अपना आशियाना भूल जाते हैं.
सोने दे अगर वो सो रहा है गुलामी की नींद में,
हो सकता है वो ख्वाब आज़ादी का देख रहा हो.

Best Allama Iqbal Shayari In Hindi

दिल से जो बात निकली है, असर रखती है,
पर नहीं, मगर ताकत-इ-परवाज़ रखती है.
हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पर रोती है,
बड़ी मुश्किल से होता है, चमन में दीदावर पैदा.
मन की तेरी दीड के काभिल नहीं हूँ मैं,
तुम एरा शौक़ देख, मेरा इंतज़ार देख.

Leave a Comment